Dhanu Sankranti : धनु संक्रांति के 10 चमत्कारी उपाय

इस संक्रांति पर हम आपको बताएँगे धनु संक्रांति के 10 चमत्कारी उपाय। ये उपाय आपके सभी तरह के कष्टों का हरण करेंगे। सूर्य के राशि परिवर्तन को संक्रांति कहते हैं। इस दिन सूर्य देव वृश्चिक राशि से निकलकर धनु राशि में प्रवेश करते हैं। इसीलिए इस दिन को धनु संक्रांति कहा जाता है।

इस वर्ष की धनु संक्रांति 15 दिसंबर 2024 को है। इस संक्रांति पर करने के लिए हम आपको धनु संक्रांति के 10 चमत्कारी उपाय बताएँगे, जो आपके जीवन में आने वाली छोटी-बड़ी सभी समस्याओं को हल करेंगे

इसे भी पढ़ें :

धनु संक्रांति के 10 चमत्कारी उपाय

  • यदि घर में कोई रोगी व्यक्ति है तो इस दिन जल से भरे हुए कलश में इत्र डालकर, उस इत्र वाले जल को रोगी व्यक्ति के हाथ से स्पर्श करने के बाद उस जल को भगवान् शिव के मंदिर में शिवलिंग पर चढाने से सभी रोग दूर हो जाते हैं। इस उपाय को धनु संक्रांति के दिन से शुरू करने के बाद 4 या 7 दिन तक करना चाहिए।
  • इस दिन महामृत्युंजय  मंत्र का पाठ करें इससे जीवन में अचानक से आने वाले संकटों से आप बच जायेंगे।
  • यदि आप अपने जीवन में सुख-समृद्धि और सफलता चाहते हैं तो धनु संक्रांति के दिन पितरों को तर्पण देने का कार्य अवशय करें। इस दिन पितरों को तर्पण देने से पितृ प्रसन्न होते हैं और उनके आशीर्वाद से व्यक्ति के जीवन में सुख-समृद्धि और सफलता आती है।
  • सूर्य देव ग्रहों के राजा होते हैं। यदि आपकी कुंडली में सूर्य मज़बूत होगा तो आपको अपने करियर और अपने कारोबार में अवश्य सफलता मिलेगी। अपनी कुंडली में सूर्य को मज़बूत करने के लिए धनु संक्रांति के दिन सुबह गंगाजल युक्त जल में स्नान करके पीले वस्त्र धारण कर लें। इसके बाद एक लौटे में कुमकुम मिला जल लेकर सूर्य देव को अर्घ्य दें। अर्घ्य देते समय “ॐ सूर्याय नमः” मंत्र का जाप करें। ऐसा करने से आपकी कुंडली में सूर्य मज़बूत होगा। इस उपाय को आप धनु संक्रांति के दिन से शुरू करके प्रतिदिन कर सकते हैं।
  • यदि आप अपनी कुंडली में अशुभ ग्रहों का प्रभाव कम करना चाहते हैं तो धनु संक्रांति की तिथि पर सुबह गंगाजल मिले जल से स्नान करने के बाद सूर्य की उपासना करने के साथ ही गंगाजल में काले तिल मिलाकर शिवलिंग का अभिषेक करें। ऐसा करने से आपकी कुंडली में अशुभ ग्रहों का प्रभाव कम हो जायेगा।
  • इस दिन भगवान् शिव की पूजा करके शिवलिंग पर गंगाजल चढ़ाएं। इससे आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी होंगी।
  • धनु संक्रांति के दिन भगवान् विष्णु पूजा पुरे विधि-विधान से करें। पूजा के बाद अपनी क्षमता के अनुसार दान अवश्य करें। ज्योतिष शाश्त्र के अनुसार ऐसा करने से कुंडली में गुरु ग्रह मज़बूत स्थिति में आ जाता है। गुरु ग्रह को सुखों का कारक माना जाता है। इस उपाय को करने से जीवन में सुख-समृद्धि आती है।
  • इस दिन भगवान् विष्णु के साथ ही माँ लक्ष्मी की भी पूजा करें। और इस दिन जरूरतमंद लोगों को भोजन कराएं और दान करें। ऐसा करने से माँ लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और घर में हमेशा बरकत बनी रहती है।
  • धनु संक्रांति के दिन बिना नमक वाला भोजन करना चाहिए, ऐसा करने से पितर प्रसन्न होते हैं और पितरों का आशीर्वाद प्राप्त होता है और रोज़मर्रा के जीवन में आने वाले कष्टों से छुटकारा मिलता है।
  • यदि आप सूर्य देव को प्रसन्न करना चाहते है तो धनु संक्रांति के दिन सूर्य देव को अर्घ्य देने के बाद कम से कम 108 बार गायत्री मंत्र का जाप करें। इससे सूर्यदेव प्रसन्न होंगे। सूर्यदेव ग्रहों के राजा हैं यदि वे प्रसन्न रहेंगे तो इसका आपकी कुंडली पर अच्छा प्रभाव पड़ेगा

Disclaimer: यहाँ दी गयी जानकारी केवल मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है। Hindumystery.com यहाँ पर दी गयी किसी भी तरह की जानकारी और मान्यता की पुष्टि नहीं करता। हमारा उद्देशय आप तक जानकारी पहुँचाना है। किसी भी जानकारी को अमल में लाने से पहले विशेषज्ञ से संपर्क करें।

Leave a Comment

error: Content is protected !!